Friday, December 24, 2010

विसंगतियां और समय




मैं राजा भी हूँ
रंक भी
मैंने दान किया है
तो भिक्षाटन भी किया है
मैंने लक्ष्य भेद किया है
तो कई जगह मेरे हाथ बंधे भी रहे हैं
मैं पूरी धरती को नाप सकता हूँ
तो मैं एक कदम में थक भी जाता हूँ
.... इसे विसंगतियां कहो
या समय !
विसंगतियों और समय के गिरफ्त में तो
प्रभु आम इन्सान हुए
मैं तो इन्सान ही हूँ
ईश्वर के पदचिन्हों का अनुगामी !









20 comments:

  1. बहुत खूब ..विचारात्‍मक शब्‍दों के साथ सुन्‍दर लेखन ...बधाई ।

    ReplyDelete
  2. wow...
    बेहद खूबसूरत...

    ReplyDelete
  3. एक सहाज आध्यात्मिक कविता...

    ReplyDelete
  4. bahut-bahut sunder dewatw se bharpoor rachana.itna samarpan.

    ReplyDelete
  5. वाह बहुत खूब ..अभी आपके ब्लॉग पर आना हुआ बहुत ही बेहतरीन लिखते हैं आप ...ज़िन्दगी के कई सच है इन लिखी रचनाओं में ..आराम से जुगाली की तर्ज़ पर पढने वाली है यह रचनाये ......

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर विचार संग्रह्।

    ReplyDelete
  7. प्रभु के पदचिह्नों का अनुगामी बन जाएँ तो फिर क्या बात है ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. काबिलेतारीफ़ है प्रस्तुति ।
    आपको दिल से बधाई ।
    ये सृजन यूँ ही चलता रहे ।

    ReplyDelete
  9. आध्यात्मिक रंग में सारगर्भित पोस्ट,बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  10. इंसान के लिए यह बहुत जरुरी है ....एक सर्वश्रेष्ठ रचना ...बहुत आभार

    ReplyDelete
  11. एक सहज आध्यात्मिक कविता??????
    नही...बिलकुल नही...ये आप है सुमन!
    सोच आध्यात्मिक बनाती है न? एक बात बताऊँ? एकदम मेरी सोच जैसे हो.मुझ जैसे.ऐसी ही हूँ मैं भी.संसार में रह कर भी इसमें नही. ना रह कर भी इसमें.
    हा हा हा
    हमारे शब्द हमारे व्यक्तित्त्व को बताते हैं.मैं तुम्हे पढ़ सकती हूँ बाबा!
    ये जो भीतर है न आपके,उसे हमेशा जिन्दा रखना.पार लग जाओगे.
    रास्ते बनाने वालों में हो. शुरुआत नही करी है तो करो.प्यार.

    ReplyDelete
  12. विसंगतियों पर बेहतरीन रचना
    आभार।

    ReplyDelete
  13. beautiful poem
    i am king i am demon

    ReplyDelete
  14. सुन्दर अध्यात्मिक अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  15. तेरी रहमत का मुझको कोई गिला नहीं है ये खुदा !
    तेरे अंदाजे ब्यान के तो कायल हैं हम सभी !
    तेरे इतने करीब होके भी तुझसे दूर क्यु हैं हम !
    तेरी इस हसीं अदा से आज भी वाकिफ क्यु नहीं है हम !

    बहुत सुन्दर अभिवक्ति !
    बधाई दोस्त !

    ReplyDelete
  16. ये तो समय है .. जो सब कुछ करवा देता है ... अक्च्ची रचना है ....
    आपको और परिवार में सभी को नव वर्ष मंगलमय हो ...

    ReplyDelete
  17. bahut sunder vichaar..badhai Suman ji.
    aapke blog par aana sukhad laga.

    http://neelamkashaas.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.
    सादर
    ------
    गणतंत्र को नमन करें

    ReplyDelete