Sunday, November 20, 2011

चलेंगे नहीं तो पहुचेंगे कैसे




सबको कहीं पहुँचना है ….

कहाँ ?

- नहीं मालूम

मगर पहुँचना है ....


कहते हैं

जीवन चलने का नाम है

चलेंगे नहीं तो पहुंचेंगे कैसे …

क्यूंकि सब चल रहे हैं,

इसलिए सब चल रहे हैं....

इसीलिए मुझे भी चलना है,

- मैं भी चल रहा हूँ ....


अच्छा चलो,

पहुँच गए,

जानोगे कैसे

पहचानोगे कैसे

मालूम कैसे होगा ????


- अरे,

उससे फ़रक क्या पड़ता है ?????

किसी को मालूम है क्या????


पर पहुँचना कहाँ है ?????

- हद हो गयी

फिर वोही बात,

कहा न


चलेंगे नहीं तो पहुचेंगे कैसे

पहुँचना

ही है ....

14 comments:

  1. है राहें अनजानी सबकी,
    पर सबको बढ़ते रहना है।

    ReplyDelete
  2. सच है ...... शुरुआत तो करनी ही होगी...... सुंदर अभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  3. आत्मविश्लेषण की तरफ प्रेरित करती आपकी यह रचना एक उतम काव्यकृति है ...!

    ReplyDelete
  4. बड़ी उलझन से भरी रचना ... चलना ही जीवन है ..पर कहीं लक्ष्य तो साधना होगा

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अच्‍छी अभिव्‍यक्ति ...

    कल 23/11/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, चलेंगे नहीं तो पहुचेंगे कैसे .. ?..
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. चलेंगे नहीं तो पहुचेंगे कैसे

    wah, bahut khub vichar...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया ... मैंने पहले भी इस पर टिप्पणी की थी .. आज कल तिप्प्नियन गायब हो जाती हैं .

    ReplyDelete
  8. जीवन दृष्टि और दर्शन के आसपास तैरती सी रचना. सुंदर.

    ReplyDelete
  9. pahli baar apke blog par ayi....chalte rahne ki prerna mili

    ReplyDelete
  10. गहरा दर्शन है यह रचना...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  11. एक अजीब सी भ्रामक अवस्था में पड़े हर मन की दास्तां...... बहुत अच्छी रचना !!

    ReplyDelete